मेरे गाँव में शामिल हुआ है थोड़ा सा शहर

Не проверенная история इस सृष्टि में कोई भी वस्तु बिना कीमत के नहीं आती, विकास भी नहीं। अभी कुछ दिन पहले एक पारिवारिक उत्सव में शरीक होने के लिए गाँव गया था। सोचा था शहर की दौड़ धूप वाली जिंदगी से दूर एक शांति भरे माहौल में जा रहा हूँ। सोचा था गाँव के खेतों में हरियाली के दर्शन होंगे। सोचा था सुबह सुबह मुर्गे की बाँग सुनाई देगी, कोयल की कुक और चिड़ियों की चहचहाहट सुनाई पड़े...
1 глава 0 просмотры Новая глава Every week

दुर्योधन कब मिट पाया

Не проверенная история जब सत्ता का नशा किसी व्यक्ति छा जाता है तब उसे ऐसा लगने लगता है कि वो सौरमंडल के सूर्य की तरह पूरे विश्व का केंद्र है और पूरी दुनिया उसी के चारो ओर ठीक वैसे हीं चक्कर लगा रही है जैसे कि सौर मंडल के ग्रह जैसे कि पृथ्वी, मांगल, शुक्र, शनि इत्यादि सूर्य का चक्कर लगाते हैं। न केवल वो अपने हर फैसले को सही मानता है अपितु उसे औरों पर थोपने की कोशिश भी करता है। नतीज...
36 ГЛАВЫ 6.2k просмотры Новая глава Каждые 10 дней

चेतना के अंकुर

Не проверенная история मेरे जीवन में बहुत सारी ऐसी घटनाएँ घटती है जो मेरे ह्रदय को आंतरिक रूप से उद्वेलित करती है। मै बहिर्मुखी स्वाभाव का हूँ और ज्यादातर मौकों पर अपने भावों का संप्रेषण कर हीं देता हूँ। फिर भी बहुत सारे मुद्दे या मौके ऐसे होते है जहाँ का भावो का संप्रेषण नहीं होता या यूँ कहें कि हो नहीं पाता। यहाँ पे मेरी लेखनी मेरा साथ निभाती है और मेरे ह्रदय ही बेचैनी को जम...
14 ГЛАВЫ 4.3k просмотры Новая глава Каждые 15 дней

Dil se

Не проверенная история यहा मेरी कविताए आप पढ सकते है
1 глава 401 просмотры Новая глава Каждые 15 дней
Блог

हौले कविता मैं गढ़ता हूँ

Не проверенная история #आत्म_कथ्य #Mind #Confession #2linesonly #2liners #Spiritual #Micro_poetry
2 ГЛАВЫ 450 просмотры Новая глава Каждое воскресенье

ज़रा सी जिंदगी

Не проверенная история अनकही दास्तान और मेरी कहानी
8 ГЛАВЫ 705 просмотры Новая глава Каждый понедельник

कविता

Не проверенная история Nil
1 глава 672 просмотры Новая глава Каждое воскресенье

बना कर दिखाओ

Не проверенная история बना कर तो दिखाओ
Короткий рассказ 772 просмотры В процессе

पश्चाताप

Не проверенная история अक्सर मंदिर के पुजारी व्यक्ति को जीवन के आसक्ति के प्रति पश्चताप का भाव रख कर ईश्वर से क्षमा प्रार्थी होने की सलाह देते हैं। इनके अनुसार यदि वासना के प्रति निरासक्त होकर ईश्वर से क्षमा याचना की जाए तो मरणोपरांत ऊर्ध्व गति प्राप्त होती है।  व्यक्ति डरकर दबी जुबान से क्षमा मांग तो लेता है परन्तु उसे अपनी अनगिनत  वासनाओं के अतृप्त रहने  का अफसोस होता है। वो पश्चाताप जो के...
Короткий рассказ 1.7k просмотры Story completed