AJAY AMITABH Follow

Advocate, Author and Poet Delhi, India.
10 FOLLOWERS
2 FOLLOWING
26k Words
JOINED Jan 09, 2021

My Stories

मान गए भई पलटूराम

Non Verified story इस सृष्टि में बदलाहटपन स्वाभाविक है। लेकिन इस बदलाहटपन में भी एक नियमितता है। एक नियत समय पर हीं दिन आता है, रात होती है। एक नियत समय पर हीं मौसम बदलते हैं। क्या हो अगर दिन रात में बदलने लगे? समुद्र सारे नियमों को ताक पर रखकर धरती पर उमड़ने को उतारू हो...
66 views Story completed

चेतना के अंकुर

मेरे जीवन में बहुत सारी ऐसी घटनाएँ घटती है जो मेरे ह्रदय को आंतरिक रूप से उद्वेलित करती है। मै बहिर्मुखी स्वाभाव का हूँ और ज्यादातर मौकों पर अपने भावों का संप्रेषण कर हीं देता हूँ। फिर भी बहुत सारे मुद्दे या मौके ऐसे होते है जहाँ का भावो का संप्रेषण नहीं ...
4.6k views New chapter Every 15 days

तुझे शर्म नहीं आती?

भुट्टे वाले ने कहा , भाई साहब किसी को धोखा दिया नहीं , झूठ बोला नहीं और मेरे उपर लोन भी नहीं है , फिर काहे का शर्म ? मेहनत और ईमानदारी से हीं तो कमा रहा हूँ , कोई गलत काम तो नहीं कर रहा । लोगो को चुना तो नहीं लगा रहा ? ऑफिस में काम करते वक्त उसकी बा...
167 views Story completed

वज्र तन दुर्योधन

जब भीम दुर्योधन को किसी भी प्रकार हरा नहीं पा रहे थे तब भगवान श्रीकृष्ण द्वारा निर्देशित किए जाने पर युद्ध की मर्यादा का उल्लंघन करते हुए छल द्वारा भीम ने दुर्योधन की जांघ पर प्रहार किया जिस कारण दुर्योधन घायल हो गिर पड़ा और अंततोगत्वा उसकी मृत्यु हो गई। प्रश्न ये...
183 views Story completed

Story Garden

These are collections of small stories written by me.
1.2k views 2 New chapter Every 15 days

What you are ashamed of

The answer he gave made me restless. It is like that every man sitting in a high position in the office does not lie, does not cheat or does not act dishonestly? And if he does, why isn't he ashamed?
1.5k views Story completed

भय कर्ण का भीम से

इस बात में कोई संशय नहीं कि महारथी कर्ण एक महान योद्धा थे और एक बार उन्होंने महाभारत युद्ध के दौरान भीमसेन को एक बार हराया भी था. परन्तु महाभारत युद्ध के दौरान एक ऐसा भी पल आया था , जब महारथी कर्ण में मन में भीमसेन का पराक्रम देख कर भय समा गया था . महाभार...
179 views Story completed

पहली मुलाकात:कर्ण की दुर्योधन से

ये बात तो तय है कि दुर्योधन की पहली मुलाकात कर्ण से उस युद्ध कीड़ा के मैंदान में नहीं बल्कि काफी पहले हीं हो गई थी। बचपन से दोनों एक दुसरे के परिचित थे और साथ साथ हीं द्रोणाचार्य से शिक्षा भी ग्रहण कर रहे थे
174 views Story completed
Blog Story

दुर्योधन कब मिट पाया

जब सत्ता का नशा किसी व्यक्ति छा जाता है तब उसे ऐसा लगने लगता है कि वो सौरमंडल के सूर्य की तरह पूरे विश्व का केंद्र है और पूरी दुनिया उसी के चारो ओर ठीक वैसे हीं चक्कर लगा रही है जैसे कि सौर मंडल के ग्रह जैसे कि पृथ्वी, मांगल, शुक्र, शनि इत्यादि सूर्य का चक्कर ...
6.6k views New chapter Every 10 days

मेरे गाँव में शामिल हुआ है थोड़ा सा शहर

इस सृष्टि में कोई भी वस्तु बिना कीमत के नहीं आती, विकास भी नहीं। अभी कुछ दिन पहले एक पारिवारिक उत्सव में शरीक होने के लिए गाँव गया था। सोचा था शहर की दौड़ धूप वाली जिंदगी से दूर एक शांति भरे माहौल में जा रहा हूँ। सोचा था गाँव के खेतों में हरियाली के ...
189 views New chapter Every week

ओहदा

ओहदा और बुद्धिमता के बीच की लकीर काफी पतली और क्षीण होती है । मात्र ओहदे से इज्जत नहीं मिलती, सम्मान नही मिलता, बुद्धिमता हासिल नहीं होती, इसे सतत अभ्यास और परिश्रम करके अर्जित करना पड़ता है।
280 views Story completed

गलत कौन

सवाल ये नहीं है कि गौतम बुद्ध के द्वारा सुझाये गए सत्य और अहिंसा के सिद्धांत सही है या गलत। सवाल ये है कि क्या आप उनको पालन करने के लिए सक्षम है या नहीं?
547 views Story completed

हौले कविता मैं गढ़ता हूँ

#आत्म_कथ्य #Mind #Confession #2linesonly #2liners #Spiritual #Micro_poetry
488 views New chapter Every Sunday

कह भी दो

मानव स्वभाव पर प्रकाश डालती एक मनोवैज्ञानिक कहानी।
484 views Story completed

Sparks of Consciousness

These are collections of poems written by me especially which touches the spirituality, Philosophy, Nature, Human understanding, Religion, Politics as also humour.
3.3k views 1 2 New chapter Every 10 days

THE REBEL

On this Republic Day, let the Indian be reminded of an Indian young man who, despite the fact that he was about to be executed in a matter of hours, was preoccupied with finishing a chapter of a book he adored.
861 views 1 Story completed

एक दफ्तर का धार्मिक भेड़िया

दफ्तर का जीवन किसी जंगल से कम नहीं । जैसे जंगल में जीने के लिए चालाकी और चपलता जरुरी है , ठीक वैसे हीं दफ्तर में एक कर्मचारी को मजबूत बनना पड़ता है  । दफ्तर  के कायदे कानून एक हिरण को भी भेड़िया बनने को बाध्य कर देते हैं  । लेकिन एक भेड़िया होकर भी कोई धर्...
1.7k views Story completed

मर्ज एक औरत का

जब मर्ज झूठा हो तो उसका इलाज सच्चा कैसे हो सकता है? मानव मस्तिष्क के मनोविज्ञान पर प्रकाश डालती हुई कहानी।
1.5k views Story completed

एक मेटल की जीवनी

ये कहानी मेरे और मेरे बेटे आप्तकाम के वार्ता पर आधारित है जहाँ पर मैंने अपने बेटे को जग्गी वासुदेव के आत्म साक्षात्कार के  अनुभूति को समझाने का प्रयास किया था।
1.7k views Story completed

वो सिगरेट पीती लड़की

धूम्रपान करने वाली लड़कियों और स्त्रियों को प्रशंसा की नजर से देखने को नही कहता। परंतु इन्हें हिक़ारत की नजर से देखना कहाँ तक उचित है?
1.7k views Story completed

My microfictions

There are no microfictions from this user yet.

Service offerings

This user is not offering any service yet.

Last updates messages and announcements

There is no update yet from this user.

Reading lists

Last public activity

Communities joined

Writing Contests where I'm participating

This user is not participating in any writing contest yet. Check all the Writing Contests available.