Espelhos Sombrios: A Ascensão das Trevas

Sinopse: A continuação de "Espelhos Sombrios" mergulha mais fundo nos segredos dos mundos paralelos, enquanto Lucas e Sofia enfrentam uma nova ameaça sobrenatural. Com capítulos eletrizantes, a história os leva a um jogo mortal contra as trevas, onde suas vidas e a existência de ambos os universos estão em jogo.
Short tale 3.1k views Story completed

तुझे शर्म नहीं आती?

भुट्टे वाले ने कहा , भाई साहब किसी को धोखा दिया नहीं , झूठ बोला नहीं और मेरे उपर लोन भी नहीं है , फिर काहे का शर्म ? मेहनत और ईमानदारी से हीं तो कमा रहा हूँ , कोई गलत काम तो नहीं कर रहा । लोगो को चुना तो नहीं लगा रहा ? ऑफिस में काम करते वक्त उसकी बातें यदा कदा मुझे सोचने पर मजबूर कर हीं देती हैं , किसी को धोखा दिया नहीं , झूठ बोला नहीं और मेरे उपर ल…
Short tale 3.3k views Story completed

वज्र तन दुर्योधन

जब भीम दुर्योधन को किसी भी प्रकार हरा नहीं पा रहे थे तब भगवान श्रीकृष्ण द्वारा निर्देशित किए जाने पर युद्ध की मर्यादा का उल्लंघन करते हुए छल द्वारा भीम ने दुर्योधन की जांघ पर प्रहार किया जिस कारण दुर्योधन घायल हो गिर पड़ा और अंततोगत्वा उसकी मृत्यु हो गई। प्रश्न ये उठता है कि आम मानव का शरीर तो वज्र का बना नहीं होता , फिर दुर्योधन का शरीर वज्र का कैसे बन गया था? उसका…
Short tale 3.1k views Story completed

भय कर्ण का भीम से

इस बात में कोई संशय नहीं कि महारथी कर्ण एक महान योद्धा थे और एक बार उन्होंने महाभारत युद्ध के दौरान भीमसेन को एक बार हराया भी था. परन्तु महाभारत युद्ध के दौरान एक ऐसा भी पल आया था , जब महारथी कर्ण में मन में भीमसेन का पराक्रम देख कर भय समा गया था . महाभारत महाग्रंथ के कर्ण पर्व के चतुरशीतितमोध्याय अर्थात अध्याय संख्या 84 के श्लोक संख्या 1 से श्लोक संख्या 14 में इस …
Short tale 2.9k views Story completed

Fake Friends (Hindi Version)

ये कहाणी बहुत सारे छोटे हिस्सो में है...यह एक मात्र चरित्र के बारे में है जो हर भावनात्मक उथल-पुथल में एकल भुमिका निभाता हैं |
11.1k views 1 2 New chapter Every 2 days

पैसे की किल्ल्त और कोरोना..

खली समय की खुराफाती
Short tale 2.0k views In progress

Anokhi Duniya

This story is for kids. Its a fiction.
Short tale 2.9k views In progress

जंगल में सभा

बहुत समय से भारत के, जानवरों से भरे एक जंगल में, जानवरों की सभा नहीं हुई थी। बुजुर्ग जानवर चिंतित थे कि नयी पीढ़ियाँ अपने गौरवशाली इतिहास को भूलती जा रहीं थी। उन्होने एक सभा करने का निर्णय लिया।
Short tale 3.8k views 1 Story completed

कह भी दो

मानव स्वभाव पर प्रकाश डालती एक मनोवैज्ञानिक कहानी।
Short tale 870 views Story completed

एक दफ्तर का धार्मिक भेड़िया

दफ्तर का जीवन किसी जंगल से कम नहीं । जैसे जंगल में जीने के लिए चालाकी और चपलता जरुरी है , ठीक वैसे हीं दफ्तर में एक कर्मचारी को मजबूत बनना पड़ता है  । दफ्तर  के कायदे कानून एक हिरण को भी भेड़िया बनने को बाध्य कर देते हैं  । लेकिन एक भेड़िया होकर भी कोई धर्मिक रह सकता है क्या ?
Short tale 2.1k views Story completed

एक मेटल की जीवनी

ये कहानी मेरे और मेरे बेटे आप्तकाम के वार्ता पर आधारित है जहाँ पर मैंने अपने बेटे को जग्गी वासुदेव के आत्म साक्षात्कार के  अनुभूति को समझाने का प्रयास किया था।
Short tale 2.1k views Story completed

मर्ज एक औरत का

जब मर्ज झूठा हो तो उसका इलाज सच्चा कैसे हो सकता है? मानव मस्तिष्क के मनोविज्ञान पर प्रकाश डालती हुई कहानी।
Short tale 1.8k views Story completed

वो सिगरेट पीती लड़की

धूम्रपान करने वाली लड़कियों और स्त्रियों को प्रशंसा की नजर से देखने को नही कहता। परंतु इन्हें हिक़ारत की नजर से देखना कहाँ तक उचित है?
Short tale 2.1k views Story completed

गलत कौन

सवाल ये नहीं है कि गौतम बुद्ध के द्वारा सुझाये गए सत्य और अहिंसा के सिद्धांत सही है या गलत। सवाल ये है कि क्या आप उनको पालन करने के लिए सक्षम है या नहीं?
Short tale 1.0k views Story completed

तारे की ओर - To Star Side

Non Verified story रात के समय एक बच्चे का जन्म हुआ। उस समय आसमान में हजारों तारें टिमटिमा रहे थे। हज़ारों तारों की रोशनी से पूरी दुनिया जगमगा रही थी। माता-पिता ने अपने बच्चे का नाम तारू रखा। तारू धीरे - धीरे बड़ा होने लगा। वह रात को सोते समय अक्सर तारों को देखा करता। वह अपने पिता से कहता पापा एक दिन में तारें के पास‌ जाऊँगा। पिता कहते- हाँ बेटा।
627 views Story completed
Blog Story

तूफ़ान का पानी

Non Verified story कहानियों और किंवदंतियों की प्रोजेक्ट गुटेनबर्ग ईबुक भाग 1 यह ईबुक संयुक्त राज्य अमेरिका और दुनिया के अधिकांश अन्य हिस्सों में कहीं भी किसी के भी उपयोग के लिए बिना किसी कीमत के और लगभग किसी भी प्रतिबंध के बिना है। आप इस ईबुक में शामिल प्रोजेक्ट गुटेनबर्ग लाइसेंस की शर्तों के तहत या www.gutेनबर्ग.org पर ऑनलाइन इसकी प्रतिलिपि बना सकते हैं, इसे दे सकते हैं या इसक…
716 views Story completed

दो भाई - Two Brothers

Non Verified story दो भाई पेड़ के ऊपर रहते थे। उनका घर-बार न था। एक की उम्र दस वर्ष और दूसरे की उम्र ग्यारह वर्ष के आस-पास थी। उनके जन्म के कुछ सालो बाद ही उनके माता पिता की मृत्यु हो गई थी। पहले भाई का नाम मेगन और दूसरे भाई का नाम ऐगन था। उनके रिश्तेदार भी इन्हें छोड़कर चले गये थे। ये दोनों भाई पेड़ के फलों और पत्तियों को खाकर अपना गुजारा चलाते थे।
661 views Story completed
Blog Story

आखिरी इच्छा - Last Wish

Non Verified story मेरे दादाजी जिनका नाम विजय था। उनका जन्म भारत देश के एक छोटे से गाँव चन्दाहा में हुआ था। वे बी.सी.सी.एल. में कार्यरत थे। तनख्वाह तो अच्छी थी, पर लाते वह हजार थे। काम पर कभी कबार ही जाया करते थे बाकि दिन नशे में धूत रहते थे। इसलिए कम तनख्वाह लाते थे। उनकी शादी सुमु नामक लड़की से हुई थी। उनके पाँच पुत्रियाँ और एक पुत्र थे। एक दिन विजय जी रोज की तरह काम पर गय…
821 views Story completed
Blog Story

होटल (Hotel)

Non Verified story एक व्यक्ति जिसका नाम श्रीकांत था। वह बिजुलिया नामक क्षेत्र में एक छोटे से होटल पर कार्य करते थे। उनकी शादी एक अनजना नामक लड़की से हुई थी। श्रीकांत जी का जन्म चन्दाहा नामक गाँव में हुआ था। जो बोकारों जिले में स्थित था। वह रोजाना अपनी साईकिल लेकर बिजुलिया की ओर चल पड़ते थे और शाम के छ: बजे के लगभग घर लौट आते थे।
1.0k views Story completed
Blog Story

समोसे की दुकान (Samosa Shop)

Non Verified story एक व्यक्ति जिसका नाम मुजरा जी था। वे एक समोसे की दुकान चलाते थे। जो गाँव भर में प्रसिद्ध थी। सुबह और दोपहर को उनके दुकान पर एक या दो ही आदमी दिखाई पड़ते थे। परंतु जब शाम हो जाती, तो उनके दुकान पर भीड़ जमा हो जाती थी।
1.2k views Story completed
Blog Story

परछाई (Shadow)

Non Verified story एक लड़का जिसका नाम पवन था। उसके घर से कुछ दूरी पर एक आरकेस्ट्रा लगा हुआ था। जो रात को शुरू होने वाला था। एक आदमी नकली परछाई बनाकर रात के समय रास्ते से गुजरने वालों को डराता था। लोग उस परछाई को भूत समझकर भाग खड़े होते थे। परछाई का आकार मनुष्य जैसा बनाया गया था।
1.3k views Story completed
Blog Story

इमली का पेड़ (Tamarind Tree)

Non Verified story कुछ लड़कें उच्च विद्यालय से पढ़कर घर आये । वे काफी थक चुके थे। दोपहर का समय था। उनके गाँव से लगभग दो या अढ़ाई किलोमीटर दूरी पर एक मेला लगा था। जो बिनोर नामक गाँव में स्थित था। वे लड़के अपने-अपने घर में भोजन करके आराम करने लगे।
1.4k views Story completed
Blog Story

इनकार (Refuse)

Non Verified story एक लड़की जिसका नाम सलिमा थी। वह नवीं कक्षा में ट्यूशन पढ़ने जाती थी। वही पर एक लड़के से उसे लगाव हो चुका था। धीरे-धीरे यह प्यार में बदल गया। कई दिनों बाद लड़के ने सलिमा के पास आकर कहा- मैं तुमसे शादी करना चाहता हूँ। सलिमा ने कहा- तुम्हें मेरे माता-पिता से बात करनी होगी। लड़का बात करने से साफ-साफ इनकार कर देता है और कहता है- चलों हम भाग चलें।
1.6k views Story completed
Blog Story

योजना (Plan)

Non Verified story ठंड का मौसम था। ठंड हर तरफ छाई हुई थी। कुछ आतंकवादी एक लम्बी सुरंग की सहायता से भारत में दाखिल हो चुके थे। उन्होने एक विद्यालय को निशाना बनाया। उन्होनें विद्यालय को अपने कब्जे में ले लिया। सभी बच्चों और शिक्षकों को बन्दी बना लिये । कुछ समय बाद वहाँ पर पुलिस आ गई। वहाँ पर लोगों की भीड़ जमा हो गई।
1.8k views Story completed
Blog Story

भयभीत (Frightened)

Non Verified story एक लड़का जिसका नाम पवन था। उसक जन्म चास नामक प्रखण्ड में हुआ था। उसके पिता साईकिल रिपेयर का काम किया करते थे । एक दिन पवन अपने मित्रों के साथ बाईक पर सवार होकर सिटी पार्क घुमने गया। जो बोकारो जिले में स्थित था ।
1.9k views Story completed
Blog Story

बीमारी का भय (Fear Of Disease)

Non Verified story मेरे जीजा जी जिनका नाम वृंदावन था । उनका जन्म मकुन्दा नामक गाँव में हुआ था । उनके पिता विजय जी बी. सी.सी.एल में कार्यरत थे । वृंदावन के तीन बहनें और एक बड़ा भाई था। वृंदावन की शादी एक अर्चना नामक लड़की से हुई। लगभग एक या डेढ़ वर्ष के बाद उनका एक पुत्र हुआ। जीवन अच्छे से, चल रहा था। कुछ वर्ष बीत गए कोरोना का दौर आया। कुछ साल बाद अर्चना ने दूसरे पुत्र को जन्म दिय…
2.1k views Story completed
Blog Story

लक्कड़बग्घा (Hyena)

Non Verified story एक व्यक्ति जिसकी उम्र लगभग 70 वर्ष के आसपास थी। उसके बाल, दाढ़ी, मुँछ सफेद हो चुके थे। उसका शरीर कमजोर हो चुका था। कुछ दिनों बाद वे खटियाँ से उठने में असमर्थ हो गये। वे अब खटियाँ पर ही लेटे रहते। उस व्यक्ति ने सोचा अब मेरी मृत्यु नजदीक है। उसने अपने बच्चों को बुलाया । उस
2.2k views Story completed
Blog Story

जोरदार हवा (Strong Wind)

Non Verified story एक लड़‌का जिसका नाम देवाशीष था। जब देवाशीष छोटा था । तब उसकी माता बीमारी के कारण मृत्यु को प्राप्त हो गयी थी । उसकी दादी ने उनका पालन पोषण किया। सौलह वर्ष की उम्र में जब उन्होंने मैट्रिक की परीक्षा दी। तब वह परीक्षा में उत्तीर्ण न हो सका । वह काफी उदास हो गया । वह 9वीं पास था। उनकी दादी मन्दिर में पूजा पाठ करती थी। इसी से उनका घर चलता था । परंतु अब उनकी दादी क…
2.4k views Story completed
Blog Story