Espelhos Sombrios: A Ascensão das Trevas

Sinopse: A continuação de "Espelhos Sombrios" mergulha mais fundo nos segredos dos mundos paralelos, enquanto Lucas e Sofia enfrentam uma nova ameaça sobrenatural. Com capítulos eletrizantes, a história os leva a um jogo mortal contra as trevas, onde suas vidas e a existência de ambos os universos estão em jogo.
Short tale 3.1k views Story completed

EL LIBRO MAGICO

Dos niñas son protagonistas de un Libro Mágico, que las convierte en escritoras; en ese espacio de tiempo conviven con la magia y la luminosidad, convirtiendo sus sueños en su propio cuento. Una corta y divertida historia para niños y todos aquellos que deseen volver a vivir una edad inocente y cristalina, llena de amor y fantasía.
Short tale 513 views 2 1 Story completed

तुझे शर्म नहीं आती?

भुट्टे वाले ने कहा , भाई साहब किसी को धोखा दिया नहीं , झूठ बोला नहीं और मेरे उपर लोन भी नहीं है , फिर काहे का शर्म ? मेहनत और ईमानदारी से हीं तो कमा रहा हूँ , कोई गलत काम तो नहीं कर रहा । लोगो को चुना तो नहीं लगा रहा ? ऑफिस में काम करते वक्त उसकी बातें यदा कदा मुझे सोचने पर मजबूर कर हीं देती हैं , किसी को धोखा दिया नहीं , झूठ बोला नहीं और मेरे उपर ल…
Short tale 3.3k views Story completed

वज्र तन दुर्योधन

जब भीम दुर्योधन को किसी भी प्रकार हरा नहीं पा रहे थे तब भगवान श्रीकृष्ण द्वारा निर्देशित किए जाने पर युद्ध की मर्यादा का उल्लंघन करते हुए छल द्वारा भीम ने दुर्योधन की जांघ पर प्रहार किया जिस कारण दुर्योधन घायल हो गिर पड़ा और अंततोगत्वा उसकी मृत्यु हो गई। प्रश्न ये उठता है कि आम मानव का शरीर तो वज्र का बना नहीं होता , फिर दुर्योधन का शरीर वज्र का कैसे बन गया था? उसका…
Short tale 3.1k views Story completed

भय कर्ण का भीम से

इस बात में कोई संशय नहीं कि महारथी कर्ण एक महान योद्धा थे और एक बार उन्होंने महाभारत युद्ध के दौरान भीमसेन को एक बार हराया भी था. परन्तु महाभारत युद्ध के दौरान एक ऐसा भी पल आया था , जब महारथी कर्ण में मन में भीमसेन का पराक्रम देख कर भय समा गया था . महाभारत महाग्रंथ के कर्ण पर्व के चतुरशीतितमोध्याय अर्थात अध्याय संख्या 84 के श्लोक संख्या 1 से श्लोक संख्या 14 में इस …
Short tale 2.9k views Story completed

Fake Friends (Hindi Version)

ये कहाणी बहुत सारे छोटे हिस्सो में है...यह एक मात्र चरित्र के बारे में है जो हर भावनात्मक उथल-पुथल में एकल भुमिका निभाता हैं |
11.1k views 1 2 New chapter Every 2 days

The Horror Story (Hindi Version)

ये कहाणी बहुतही रोमांचक है और लघू नाटक से भरी है |
8.0k views 1 2 New chapter Every 2 days

DUMAS BEACH ( ख़ामोश खौफ़ की रात )

MY NAME IS ZUBAIR KHAN I AM A WRITER FROM - AGRA UTTAR PRADESH INSTA ID - SZUBAIRKHAN EMAIL ID - [email protected] FACEBOOK ID - ZUBAIR KHAN KHAN
1.7k views Story completed

पैसे की किल्ल्त और कोरोना..

खली समय की खुराफाती
Short tale 2.0k views In progress

पश्चाताप

अक्सर मंदिर के पुजारी व्यक्ति को जीवन के आसक्ति के प्रति पश्चताप का भाव रख कर ईश्वर से क्षमा प्रार्थी होने की सलाह देते हैं। इनके अनुसार यदि वासना के प्रति निरासक्त होकर ईश्वर से क्षमा याचना की जाए तो मरणोपरांत ऊर्ध्व गति प्राप्त होती है।  व्यक्ति डरकर दबी जुबान से क्षमा मांग तो लेता है परन्तु उसे अपनी अनगिनत  वासनाओं के अतृप्त रहने  का अफसोस होता है। वो पश्चाताप जो केवल…
Short tale 2.3k views 1 Story completed

अपने सपने (part 2)

एक नई सोच की शुरुआत!
2.3k views 1 Story completed

दिल को छूते अल्फ़ाज़

Motivational, Heartbroken, Relationship, love & Romance.
2.6k views 5 1 New chapter Every week
Blog Story

अमर गीता सार

अमर गीता एक व्यावहारिक, प्रेरणादायक, आध्यात्मिक , समृद्धता से संबंधित पुस्तक है। अमर गीता, युवाओं(14 - 30 साल की उम्र ) , मध्यम आयु (30-40 वर्ष की आयु ) और 40 + से 80+ , के लिए जीवन मार्गदर्शक है।
2.5k views 7 Story completed

Ek vivah aisa bhi

Ek vivah aisa bhi
2.6k views New chapter Everyday

Anokhi Duniya

This story is for kids. Its a fiction.
Short tale 2.9k views In progress

जंगल में सभा

बहुत समय से भारत के, जानवरों से भरे एक जंगल में, जानवरों की सभा नहीं हुई थी। बुजुर्ग जानवर चिंतित थे कि नयी पीढ़ियाँ अपने गौरवशाली इतिहास को भूलती जा रहीं थी। उन्होने एक सभा करने का निर्णय लिया।
Short tale 3.8k views 1 Story completed

दो बातें!

गुरुजी से हमेशा कुछ न कुछ सीखने को मिलता है। पर इस बार इस कहानी को पढ़कर आपको जीवन के कुछ महत्वपूर्ण बातें सीखने को मिलेगी, और साथ ही साथ कैसे एक लड़के ने मज़ेदार तरीके से उसे अमल किया है। अच्छी शिक्षा और मज़ेदार कहानी! जानिए कैसे एक लड़के ने अपनी बुद्धि का इस्तमाल कर कुछ बड़ा हासिल किया!
Short tale 1.4k views Story completed

कविता

Nil
1.0k views 1 New chapter Every Sunday

Dil se

यहा मेरी कविताए आप पढ सकते है
3.0k views New chapter Every 15 days
Blog Story

आखिरी दस्तक

जब नलिनी की खूबसूरती उसकी दुश्मन बनती है तो हर नज़र उसके कपड़ों के अंदर झाँकती है लेकिन वो किसी तरह इस वहशी समाज में रह रही थी, समाज के उन भूखे भेड़ियों से बचकर लेकिन आज उसका सामना हुआ ऐसी मुसीबत से जो उसके जिस्म को नोंचकर खा जाएगा और कोई उसका सामना नहीं कर सकता। कैसे बचेगी नलिनी की आबरू? या बन जाएगी वो उसकी हवस का शिकार? क्या करेगी वह जब मुसीबत देगी उ…
964 views New chapter Every week

हौले कविता मैं गढ़ता हूँ

#आत्म_कथ्य #Mind #Confession #2linesonly #2liners #Spiritual #Micro_poetry
877 views 2 Story completed

दुर्योधन कब मिट पाया

जब सत्ता का नशा किसी व्यक्ति छा जाता है तब उसे ऐसा लगने लगता है कि वो सौरमंडल के सूर्य की तरह पूरे विश्व का केंद्र है और पूरी दुनिया उसी के चारो ओर ठीक वैसे हीं चक्कर लगा रही है जैसे कि सौर मंडल के ग्रह जैसे कि पृथ्वी, मांगल, शुक्र, शनि इत्यादि सूर्य का चक्कर लगाते हैं। न केवल वो अपने हर फैसले को सही मानता है अपितु उसे औरों पर थोपने की कोशिश भी करता है। नतीजा …
18.8k views 41 New chapter Every 10 days

चेतना के अंकुर

मेरे जीवन में बहुत सारी ऐसी घटनाएँ घटती है जो मेरे ह्रदय को आंतरिक रूप से उद्वेलित करती है। मै बहिर्मुखी स्वाभाव का हूँ और ज्यादातर मौकों पर अपने भावों का संप्रेषण कर हीं देता हूँ। फिर भी बहुत सारे मुद्दे या मौके ऐसे होते है जहाँ का भावो का संप्रेषण नहीं होता या यूँ कहें कि हो नहीं पाता। यहाँ पे मेरी लेखनी मेरा साथ निभाती है और मेरे ह्रदय ही बेचैनी को जमान…
38.8k views 27 Story completed

ओहदा

ओहदा और बुद्धिमता के बीच की लकीर काफी पतली और क्षीण होती है । मात्र ओहदे से इज्जत नहीं मिलती, सम्मान नही मिलता, बुद्धिमता हासिल नहीं होती, इसे सतत अभ्यास और परिश्रम करके अर्जित करना पड़ता है।
Short tale 1.5k views Story completed

कह भी दो

मानव स्वभाव पर प्रकाश डालती एक मनोवैज्ञानिक कहानी।
Short tale 869 views Story completed

एक दफ्तर का धार्मिक भेड़िया

दफ्तर का जीवन किसी जंगल से कम नहीं । जैसे जंगल में जीने के लिए चालाकी और चपलता जरुरी है , ठीक वैसे हीं दफ्तर में एक कर्मचारी को मजबूत बनना पड़ता है  । दफ्तर  के कायदे कानून एक हिरण को भी भेड़िया बनने को बाध्य कर देते हैं  । लेकिन एक भेड़िया होकर भी कोई धर्मिक रह सकता है क्या ?
Short tale 2.1k views Story completed

एक मेटल की जीवनी

ये कहानी मेरे और मेरे बेटे आप्तकाम के वार्ता पर आधारित है जहाँ पर मैंने अपने बेटे को जग्गी वासुदेव के आत्म साक्षात्कार के  अनुभूति को समझाने का प्रयास किया था।
Short tale 2.1k views Story completed

मर्ज एक औरत का

जब मर्ज झूठा हो तो उसका इलाज सच्चा कैसे हो सकता है? मानव मस्तिष्क के मनोविज्ञान पर प्रकाश डालती हुई कहानी।
Short tale 1.8k views Story completed