चेतना के अंकुर

Nicht überprüfte Geschichte मेरे जीवन में बहुत सारी ऐसी घटनाएँ घटती है जो मेरे ह्रदय को आंतरिक रूप से उद्वेलित करती है। मै बहिर्मुखी स्वाभाव का हूँ और ज्यादातर मौकों पर अपने भावों का संप्रेषण कर हीं देता हूँ। फिर भी बहुत सारे मुद्दे या मौके ऐसे होते है जहाँ का भावो का संप्रेषण नहीं होता या यूँ कहें कि हो नहीं पाता। यहाँ पे मेरी लेखनी मेरा साथ निभाती है और मेरे ह्रदय ही बेचैनी को जम...
5 KAPITEL 3.2k Abrufe Neues Kapitel Alle 15 Tage

दुर्योधन कब मिट पाया

Nicht überprüfte Geschichte जब सत्ता का नशा किसी व्यक्ति छा जाता है तब उसे ऐसा लगने लगता है कि वो सौरमंडल के सूर्य की तरह पूरे विश्व का केंद्र है और पूरी दुनिया उसी के चारो ओर ठीक वैसे हीं चक्कर लगा रही है जैसे कि सौर मंडल के ग्रह जैसे कि पृथ्वी, मांगल, शुक्र, शनि इत्यादि सूर्य का चक्कर लगाते हैं। न केवल वो अपने हर फैसले को सही मानता है अपितु उसे औरों पर थोपने की कोशिश भी करता है। नतीज...
32 KAPITEL 5.0k Abrufe Neues Kapitel Alle 10 Tage

ज़रा सी जिंदगी

Nicht überprüfte Geschichte अनकही दास्तान और मेरी कहानी
8 KAPITEL 223 Abrufe Neues Kapitel Jeden Montag

कविता

Nicht überprüfte Geschichte Nil
1 Kapitel 614 Abrufe Neues Kapitel Jeden Sonntag

बना कर दिखाओ

Nicht überprüfte Geschichte बना कर तो दिखाओ
Kurzgeschichte 714 Abrufe Im Fortschritt

पश्चाताप

Nicht überprüfte Geschichte अक्सर मंदिर के पुजारी व्यक्ति को जीवन के आसक्ति के प्रति पश्चताप का भाव रख कर ईश्वर से क्षमा प्रार्थी होने की सलाह देते हैं। इनके अनुसार यदि वासना के प्रति निरासक्त होकर ईश्वर से क्षमा याचना की जाए तो मरणोपरांत ऊर्ध्व गति प्राप्त होती है।  व्यक्ति डरकर दबी जुबान से क्षमा मांग तो लेता है परन्तु उसे अपनी अनगिनत  वासनाओं के अतृप्त रहने  का अफसोस होता है। वो पश्चाताप जो के...
Kurzgeschichte 1.6k Abrufe Abgeschlossene Geschichte